द्वन्द्व समास एवं बहूब्रीहि समास


द्वन्द्व समासः- जिस समस्त पद में कोई पद द्रधान न हो और दोनों पदों का समान महत्व हो तथा जिसमें पदों को मिलाने वाले समुच्चयबोधकों (और, तथा, वा, अथवा, एवं)का लोप हो, वहाँ द्वन्द्व समास होता है । 
जैसे-    सुख दुख                  सुख और (या) दुख              रात दिन        रात और (या) दिन
          दाल रोटी                दाल और (या) रोटी            राजा रंक       राजा और (या) रंक
          देश विदेश               देश और (या) विदेश            राधा कृष्ण     राधा और कृष्ण
          स्वर्ग नरक               स्वर्ग और (या) नरक            ऊँच नीच       ऊँच और (या) नीच
 
बहूब्रीहि समासः- जब दो शब्द समास युक्त होकर किसी तीसरे शब्द का विशेषण बन जाते है, तब वे बहूब्रीहि समास कहलाते है । इस समास में समस्त खण्डों वाला कोई भी खण्ड प्रधान नही होता, परन्तु कोई शब्द पद प्रधान होता है । जैसे –
                   पिताम्बर                पीला हैं अम्बर जिसका अर्थात                  विष्णु
                   श्वेताम्बर                 श्वेत हैं अम्बर जिसके                              सरस्वती
                   नीलकण्ठ                 नीला हैं कण्ठ जिसका अर्थात                    शिव
                   दशानन                   दश हैं आनन जिसके अर्थात                      रावण
                   लम्बोदर                 लम्बा हैं उदर जिसका अर्थात                    गणेश

 कर्मधारय और बहूब्रीहि समास में अन्तर

कर्मधारय में समस्त पद एक पद विशेषण या उपमान और दूसरा पद विशेषण या उपमेय होता हैं । इसमें शब्दार्थ प्रधान होता है ।
जैसे- ‘नीलकण्ठ’ नीला हैं जो कण्ठ ‘कमल नयन’ कमल जैसे नयन 

बहूब्रीहि में समस्त पद के दोनों पदों में विशेषण विशेष्य का सम्बन्ध नही होता अपितु वह समस्त पद किसी अन्य संज्ञादि का विशेषण होता हैं । इसके साथ ही शब्दार्थ गौण होता है और कोई भिन्नार्थ ही प्रधान होता है ।
जैसे-
नीलकण्ठ       नीला है कण्ठ जिसका अर्थात    शिव
कमलनयन       कमल जैसे है नयन जिसके      कृष्ण
पीताम्बर           पीले है अम्बर जिसके          विष्णु

logo
Dictionary Logo

कर्मधारय एवं द्विगु समास


कर्मधारय समास – जिसका पहला खण्ड विशेषण और दूसरा विशेष्य हो अथवा पहला खण्ड उपमान और दूसरा उपमेय का संबन्ध हो, उसे कर्मधारय समास कहते है । 

जैसे-
समस्त पद                         पहला पद                         दूसरा पद                विग्रह
नीलकमल                         नील(विशेषण)                   कमल(विशेष्य)         नीला है जो कमल
नीलकण्ठ                          नील (विशेषण)                  कण्ठ (विशेष्य)          नीला है जो कण्ठ
पीताम्बर                          पीत (विशेषण)                  अंबर (विशेष्य)         पीला है जो अम्बर
स्वर्णकमल                        स्वर्ण (विशेषण)                  कमल (विशेष्य)        स्वर्ण है जो कमल

उपमान और उपमेय से युक्त कर्मधारय   -
मृगनयन                           मृग (उपमान)                    नयन (उपमेय)                   मृग
कमलनयन                        कमल (उपमान)                 नयन (उपमेय)          कमल रुपी नयन
विद्याधन                          विद्या (उपमान)                 धन (उपमेय)           विद्या रुपी धन 

द्विगु समास – जहाँ पहला पद संख्या वाचक विशेषण हो और समस्त पद समूह का बोध कराये, उसे द्विगु समास कहते है । 

जैसे –
चवन्नी           चार आनों का समूह                      चव (चार) संख्या वाचक विशेषण हैं ।
चौमासा        चार मासों का समूह                      चौ (चार) संख्या वाचक विशेषण हैं ।
पंचवटी         पाँच वटों का समूह                       पंच (पाँच) संख्या वाचक विशेषण हैं।
त्रिवेणी          तीन वेणियों का समूह                   त्रि (तीन) संख्या वाचक विशेषण है ।
नवरात्र         नव रात्रियों का समूह                    नव (नौ) संख्या वाचक विशेषण है । 

logo
Dictionary Logo

तत्पुरुष समास


तत्पुरुष समास – जिस समास में दूसरा पद प्रधान होता है और पहले खण्ड के विभक्ति चिन्हों (परसर्गो) का लोप कर दिया जाता है, उसे तत्पुरुष समास कहते है ।
जैसे - राजकुमार      =       राजा का कुमार         धनहीन =   धन से हीन 

तत्पुरुष समास के भेद

(क) कर्म तत्पुरुष -   इसमें पदों के बीच से कर्म कारक की विभक्ति ‘को’ का लोप पाया जाता है , तो समास पद कर्म तत्पुरुष कहलाता है । जैसे –
                   समस्त पद                         विग्रह
                   शरणागत                          शरण को आया हुआ
                   ग्रहगत                              गृह को आगत
                   गिरहकट                           गिरह को काटने वाला
                   ग्रामगत                            ग्राम को गत (गया हुआ)
                   ग्रंथकार                            ग्रंथ को करने वाला
                   गगनचुम्बी                        गगन को चुमने वाला

(ख) करण तत्पुरुष - इसमें करण कारक की विभक्ति ‘से’ (द्वारा) का लोप हो जाता है, तो समास पद करण तत्पुरुष कहलाता है । जैसे –
                    समस्त पद                                 विग्रह
                   तुलसीकृत                                   तुलसी द्वारा या (से) कृत
                   मनचाहा                                    मन से चाहा
                   अनुभवजन्य                                अनुभव से जन्य
                   प्रेमातुर                                      प्रेम से आतुर
                   अकालपीड़ित                              अकाल से पीड़ित
                   रेखांकित                                    रेखा से अंकित
                   जन्मरोगी                                   जन्म से रोगी

(ग) सम्प्रदान तत्पुरुष – इसमें सम्प्रदान कारक की विभक्ति ‘के लिये’ का लोप हो जाता है, तो समास पद सम्प्रदान तत्पुरुष कहलाता है । जैसे –
                   समस्त पद                                  विग्रह
                   हवनसामग्री                                हवन के लिए सामग्री
                   देशभक्ति                                    देश के लिए भक्ति
                   यज्ञशाला                                    यज्ञ के लिए शाला
                   गुरुदक्षिणा                                  गुरु के लिए दक्षिणा
                   रसोईघर                                    रसोई के लिए घर
                    पाठशाला                                  पाठ के लिए शाला
                   ग्रहखर्च                                      ग्रह के लिए खर्च 

(घ) अपादान तत्पुरुष – इसमें अपादान कारक की विभक्ति ‘से’ (अलग होने का भाव) का लोप हो जाता है, तो समास पद अपादान तत्पुरुष कहलाता है । जैसे –
                   समस्त पद                                            विग्रह
                   भयभीत                                               भय से भीत
                   पथभ्रष्ट                                              पथ से भ्रष्ट
                   देशनिकाला                                          देश से निकाला
                   आकाशवाणी                                         आकाश से आई वाणी
                   देशनिर्वासित                                        देश से निर्वासित
                   ऋणमुक्त                                              ऋण से मुक्त
                   पदच्युत                                               पद से च्युत

(ड़) सम्बन्ध तत्पुरुष – इसमें सम्बन्ध कारक की विभक्ति (का, के, की) का लोप हो जाता है, तो समास पद सम्बन्ध तत्पुरुष कहलाता है ।जैसे –
समस्त पद               विग्रह                               समस्त पद                         विग्रह
राजकुमार               राजा का कुमार                  राजमहल                          राजा का महल
गंगाजल                  गंगा का जल                      मृगशावक                         मृग का शावक
पवनपुत्र                  पवन का पुत्र                     देवालय                            देव का आलय
रामकहानी              राम की कहानी                  घुड़दौड़                            घौड़ौ की दौड़
नगरनिवासी            नगर का निवासी                राष्ट्रभाषा                          राष्ट्र की भाषा
राजपुत्र                   राजा का पुत्र                     संसारत्याग                        संसार का त्याग 

(च) अधिकरण तत्पुरुष - इसमे अधिकरण तत्पुरुष की विभक्ति (में, पर) का लोप पाया जाता है, तो समास पद  अधिकरण तत्पुरुष कहलाता है  । जैसे –
समस्त पद                         विग्रह                               समस्त पद               विग्रह
जलमग्न                            जल में मग्न                        ग्रामवास                 ग्राम में वास
ध्यानमग्न                          ध्यान में मग्न                      कार्यकुशल               कार्य में कुशल
वनवास                            वन में वास                        शरणागत                शरण में आगत
कलाप्रवीण                        कला में प्रवीण                   शोकमग्न                  शोक में मग्न
घुड़सवार                          घोड़े पर सवार                   आपबीती                अपने पर बीती

(छ) नञ् तत्पुरुष – जिस शब्द में ‘न’ के अर्थ में ‘अ’ अथवा ‘अन’ का प्रयोग हो उसे ‘नञ् तत्पुरुष’ कहते है । जैसे-     असम्भव                 न संभव                  अधर्म            न धर्म
              अनहोनी             न होनी                   अनचाहा       न चाहा

logo
Dictionary Logo

समास


समास

समसनम् संक्षेपीकरण्म् इति समास; अर्थात् समास से तात्पर्य है संक्षेपीकरण

समास – परस्पर सम्बन्ध रखने वाले दो या दो से अधिक शब्दों को मिलाकर एक नया संक्षिप्त शब्द बनाया जाता है तो, इस मेल को समास कहते है ।
          जैसे -            राजभवन = राजा का भवन
                             राजपुत्र = राजा का पुत्र
यहाँ अर्थ में कोइ परिवर्तन नही आया । इस संक्षेपीकरण की विधि को समास कहते है ।
समस्त शब्द  - समास द्वारा मिले पद को ‘समस्त पद’ कहते है । इसे दूसरे शब्दों में ‘समास किया हुआ शब्द’ कहते है ।   जैसे - राजभवन, राजपुत्र 

विग्रह – समस्त पद के खण्ड करके उन्हें फिर से अलग–अलग दिखाने की रीति को विग्रह (अलग करना) कहते है । जैसे– समस्त शब्द   = राजमहल   विग्रह – राजा का महल

समास के भेद

१.अव्ययीभाव समास
२.तत्पुरुष समास
३.द्वन्द्व समास
४.बहुब्रीहि समास 

१.अव्ययीभाव समास - अव्ययीभाव का शाब्दिक अर्थ है – अव्यय हो जाना । इसमें पहला खण्ड अव्यय प्रधान होता है और समस्त पद से अव्यय का बोध होता हो, अव्ययीभाव समास कहलाता है । अव्ययीभाव समास में कुछ शब्द लोप हो जाते है और उनके बदले अव्यय आ जाता है । 

जैसे -            समस्तपद                          विग्रह
                   प्रतिपल                  हर पल (पलपल)
                   आजन्म                   जन्म से लेकर
                   यथाशक्ति                शक्ति के अनुसार
                   यथाक्रम                  क्रम के अनुसार
                   निडर                     बिना डर के
                   बेशक                     बिना शक के
                   प्रत्येक                     हर एक
                   भरपेट                     पेट भर के
                   बाकायदा                कायदे के अनुसार
logo
Dictionary Logo

विसर्ग संधि


विसर्ग से परे स्वर या व्यंजन आने से विसर्ग में जो विकार होता है, उसे विसर्ग संधि कहते है । 

विसर्ग संधि के नियम

१. यदि ‘अ’ से परे विसर्ग हो और उसके सामने वर्ग का तीसरा, चौथा, या पाँचवा वर्ग अथवा य, र, ल, व, में से कोई वर्ग हो तो विसर्ग ‘अः’ के स्थान पर ‘ओ’ हो जाता है ।
जैसे – मनः + हर = मनोहर           मनः + योग = मनोयोग 

२. विसर्ग से पहले ‘अ’, ‘आ’ को छोड़कर कोई दूसरा स्वर हो और उसके सामने कोई स्वर वर्ग का तीसरा, चौथा, पाँचवा अक्षर अथवा अन्तस्थ (य, र, ल, व) में से कोई वर्ग हो तो विसर्ग का ‘र’ हो जाता है ।      जैसे – निः + जन = निर्जन   (इ +ः = र)
          निः + आशा = निराशा                           निः + गुण = निर्गुण 

३.विसर्ग से परे ‘च’ या ‘छ’ होने पर विसर्ग का ‘श’ हो जाता है ।
          जैसे – निः + चिन्त = निश्चिन्त                 निः + छल = निश्छल 

४. विसर्ग से परे ‘ट’ ‘ड’ होने पर विसर्ग का ‘ष’ हो जाता है ।
          जैसे – धनु + टंकार = धनुष्टंकार  

५.विसर्ग से परे ‘त’ ‘थ’ होने पर विसर्ग का ‘स’ हो जाता है ।
          जैसे – दुः + तर = दुस्तर                         निः + तार = निस्तार 

६.विसर्ग से परे श, ष, स, होने पर विसर्ग को उन्हीं में बदल देतें है ।
          जैसे – दुः + शासन = दुस्शासन                          निः + संदेह = निस्संदेह 

७.विसर्ग से पूर्व ‘अ’ हो और बाद में ‘अ’ या ‘आ’ के अतिरिक्त कोई स्वर हो तो विसर्ग का लोप हो जाता है ।      जैसे – अतः + एव = अतएव 

८.विसर्ग से पूर्व ‘इ’ अथवा ‘उ’ रहने पर और सामने  क , ख, प , फ आने पर विसर्ग का ‘ष’ हो जाता है ।         जैसे – निः + कपट = निष्कपट    निः + फल = निष्फल          दुः + कर्म = दुष्कर्म 

हिन्दी की विशेष संधियाँ

१. ‘ह’ का लोप – जहाँ, कहाँ आदि के पीछे ‘ही’ आने पर ‘हाँ’ लुप्त हो जाता है और अन्तिम ‘ई’ पर अनुस्वार लग जाता है 
जैसे – कहाँ + ही = कहीं                यहाँ + ही = यहीं                वहाँ + ही = वहीं 

२. ह को भ – जब , तब , कब , सब  आदि शब्दों के पीछे ‘ही’ आने पर ‘ही’ के ‘ह’ को ‘भ’ हो जाता है और पहले ‘ब’ का लोप हो जाता है ।
जैसे – जब + ही = जभी                तब + ही = तभी                कब + ही = कभी 

३. ‘र’ का लोप – कही – कही संस्कृत के ‘र’ लोप, दीर्घ और यण् आदि सन्धियों के नियम हिन्दी में लागू नही होते –
जैसे – अन्तर + राष्ट्रीय = अन्तर्राष्ट्रीय                   स्त्री + उपयोगी = स्त्रियोपयोगी 

४. विसर्ग को ओ – संस्कृत में ‘अ’ के बाद विसर्ग और परे ‘क’ होने पर विसर्ग का ‘स’ हो जाता है 
जैसे – नमः + कार = नमस्कार   
logo
Dictionary Logo