शुध्द वर्तनी और उसके नियम


शुध्द वर्तनी और उसके नियम

हम अब तक ये समझ और सिख चूकें है कि किस प्रकार स्वर और व्यंजनों से मिलकर शब्द की उत्पत्ति होती है, ठीक उसी प्रकार अब हम शब्दों का सही उच्चारण करना सिखेंगे, कैसे मात्र एक मात्रा से ‘शुध्द’ का ‘अशुध्द’ और ‘अर्थ’ का ‘अनर्थ’ होता है।

शुध्द भाषा लिखने में वर्तनी का सबसे महत्वपूर्ण स्थान है। यदि लिखते समय वर्तनी अशुध्द हो गई हो तो शब्द का उच्चारण तो अशुध्द होगा ही, साथ ही उसके अर्थ- ज्ञान में भी भ्रम उत्पन्न हो जाएगा ; क्योंकि वर्तनी में थोड़ा-सा परिवर्तन ही शब्द के अर्थ में भारी उलटफेर कर सकता है। जैसे ‘सुत’ और ‘सूत’, ‘कुंती’ और ‘कुत्ती’ आदि श्ब्दों में वर्तनी के मामूली से बदलाव ने अर्थ को बिलकुल बदल डाला है; अतएव वर्तनी के सामान्य नियमों का ज्ञान होना बहुत आवश्यक है।
वर्तनी में अशुध्दि के कारण – 

(क)   गलत शब्द का प्रयोग
(ख)   अशुध्द उच्चारण
(ग)    सही वर्तनी लिखने में अज्ञान

प्रायः ही अशुध्द वर्तनी का मुख्य कारण है – प्रयुक्त किए गए शब्द का सही ज्ञान न होना। उदाहरण के लिए यदि हमें पता ही न हो कि शव्द ‘आदी’ है या ‘आदि’ तो हम एक को दूसरे के स्थान पर प्रयुक्त करने की भूल कर बैठेंगे। इसी प्रकार यदि हम शब्द के उच्चारण में भूल करेंगे तो उसकी वर्तनी भी अवश्य अशुध्द लिख बैठेंगे।कभी -कभी हम वर्तनी के सही रुप से ही परिचित नहीं होते और अशुध्दि कर बैठते हैं। जैसे ‘द्वितिय’ शब्द को सही रुप का ज्ञान न होने से हम इसे ‘ द्वित्तीय’ भी लिखते हैं। अब यहाँ कुछ ऐसे उदाहरण दिए जा रहे हैं, जिसमें अशुध्द उच्चारण के कारण वर्तनी अशुध्द हो गईः

‘अ’ के स्थान पर ‘आ’ और ‘आ’ के स्थान पर ‘अ’ की अशुध्दि…..

अशुध्द                शुध्द                  अशुध्द                 शुध्द
आधीन                    अधीन                    अहार                     आहार
चहिए                     चाहिए                   हस्ताक्षेप                 हस्तक्षेप
अशीर्वाद                 आशीर्वाद                असन                      आसान
तलाब                     तालाब                   अरती                     आरती
अधिक्य                  आधिक्य                  परिवारिक               पारिवारिक
परलोकिक               पारलौकिक             व्यवहारिक              व्यावहारिक
निरस                     नीरस                     अनाधिकार              अनधिकार
बारात                    बरात                     अवाज                    आवाज
जगेगा                     जागेगा                   नराज                     नाराज
अजमाइश               आजमाइश               भगीरथी                 भागीरथी
बदाम                     बादाम                    भगना                     भागना
बजार                     बाजार                    माहराज                  महाराज
गजरज                   गजराज                   अगामी                    आगामी
समाजिक                सामाजिक               प्रमाणिक                 प्रामाणिक
अविष्कार                आविष्कार               संसारिक                 सांसारिक
नदान                     नादान                    रसायनिक               रासायनिक
मलूम                     मालूम                    अधिक्य                  आधिक्य
तत्कालिक               तात्कालिक              सप्ताहिक                 साप्ताहिक
आदी                      आदि                      क्षत्रीय                    क्षत्रिय

logo
Dictionary Logo

हिन्दी सींखेः प्रयत्न तालिका


प्रयत्न तालिका

आभ्यन्तर प्रयत्न                     वर्ण                            बाह्य प्रयत्न
स्पृष्ट प्रयत्न                        क ख च छ ट ठ                            अल्पप्राण
त फ थ फ                                   महाप्राण    अघोष

(स्पर्श वर्ण)                        ग ज ड द ब                                 अल्पप्राण
                                      क झ ढ ध भ                                महाप्राण
                                      ङ ञ न ण म                                अल्पप्राण   घोष

ईषत्स्पष्ट अंतस्थ                 य र ल व                                    अल्पप्राण   घोष

विवृत                               अ आ इ ई उ ऊ                            अल्पप्राण   घोष
                                      ऋ ए ऐ ओ औ

ईषद् विवृत (उष्म)              श ष स                                       महाप्राण   अघोष


उत्क्षिप्त -   जिन व्यंजनों में जिह्वा ऊपर उठ कर मूर्द्धा को स्पर्श कर तुरन्त नीचे गिरती है, उन्हें उत्क्षिप्त कहते हैं। ड़ ढ़।

व्यंजन गुच्छ – जब दो या दो से अधिक व्यंजन एक साथ एक श्वास से झटके में बोले जाते है, तो उनको व्यंजन गुच्छ कहते है । जैसे –प्यास, स्त्रोत, स्फुर्ति ,आदि ।

द्वित्व – एक व्यंजन का अपने समरुप व्यंजन से मिलना द्वित्व कहलाता है ।
जैसे- प्यास, क्यारी, स्रोत, स्फुर्ति, आदि।

व्यंजन संयोग तथा व्यंजन गुच्छ   जब एक व्यंजन के साथ दूसरा व्यंजन आता है ,तो दोनो का उच्चारण अलग – अलग किया जाय तो व्यंजन संयोग होता है ।इसमे व्यंजनों को अलग-अलग लिखना चाहिये ।

जैसे-उलटा-इस शब्द में ‘ल’ और ‘ ट’ का संयोग है। परन्तु ‘अ’ का अस्तित्व होते हुए भी  उच्चारण की स्थिति में इसका लोप हो गया है।
सन्त [संत] शब्द में व्यंजन गुच्छ है। यह व्यंजन गुच्छ (न्=त) का है।

बलाघात – किसी शब्द के उच्चारण में अक्षर पर जो बल दिया जाता है ,उसे बलाघात कहते है। बलाघात अक्षर  के स्वर पर होता है । किसी भी शब्द के सभी अक्षर समान बल से नही बोले जाते बलाघात के नीचे लिखे रुप देखे जा सकते हैं।
(क)  एकाक्षर  वाले शब्दों में बलाघात स्वभावतः उसी अक्षर पर होता है।
जैसे – यह, वह, जल, फल आदि।
(ख)  एकाक्षर  वाले शब्दों में यदि सभी अक्षर ह्रस्व हों तो बलाघात अन्तिम से (उपांत्य) अक्षर पर होता है। जैसे- अमल, अगणित।
(ग)   तीन अक्षर वाले शब्दों में यदि मध्य अक्षर दीर्घ हो, तो बलाघात उसी पर पड़ेगा । जैसे- समीप, मसाला।
     ( घ) बलाघात शब्द स्तर पर भी देखा जाता है । जैसे- तुम जाओ (तुम फौरन जाओ)

अनुतान – बोल में जो सुर का उतार चढाव होता है, उसे अनुतान कहते है।
जैसे- अच्छा ? प्रश्नात्मक रुप में
      अच्छा । आश्चर्य के अर्थ में
       अच्छा। स्वीकृति के अर्थ में
(क) यह बहुत अच्छा फल है ?
(ख) यह बहुत अच्छा फल है।
(ग) यह बहुत अच्छा फल है।

संगम – उच्चारण में स्वरों और व्यंजनों के उच्चारण उनकी दीर्घता और उनके बलाघात के साथ-साथ पदीय सीमाओं को भी जानना आवश्यक है। इनका सीमा संकेत ही  संगम  कहलाता है। प्रवाह में अक्षरों के बीच हल्का सा विराम होता है ,उसी विराम का नाम संगम है। संगम की स्थिति से बलाघात में भी अन्तर आ जाता है। दो भिन्न स्थानो पर संगम से दो भिन्न अर्थ निकलते है।
जैसे – मनका      माला का मनका
       मन+का  – मन का भाव
       सिर+का – सिर से सम्बद्ध
       सिरका   – एक तरह का तरल पदार्थ
logo
Dictionary Logo

हिन्दी सींखे: प्रयत्न


प्रयत्न
अभी तक हमने स्वर एंव उसकी मात्राएँ पढ़ी, स्वरों की मात्राएँ पूर्ण शब्द बनाने में सहायक होती है, इसके पश्चात हम प्रयत्न किसे कहते है तथा इनका क्या महत्व है इसकी जानकारी प्राप्त करेंगे- 

वर्णो के उच्चारण में होने वाले मुख के यत्न को प्रयत्न कहते हैं।

प्रयत्न के प्रकार:-
१. आभ्यन्तर प्रयत्न 
२. बाह्य प्रयत्न

आभ्यन्तर प्रयत्न
वर्णो के उच्चारण से पेहले आरंभ होने वाले प्रयत्न को आभ्यन्तर प्रयत्न कहते है।

       आभ्यन्तर प्रयत्न के भेद:-
१.     विवृत- विवृत का अर्थ है ‘खुला हुआ’। ‘अ’ से ‘औ’ तक सभी स्वर विवृत कहलाते है, क्योंकि इनके उच्चारण में मुख पूर्ण से खुला रहता है।

२.     स्पृष्ट- इसका अर्थ है ‘छुआ हुआ’ । ‘क’ से ‘म’ तक सभी २५ स्पर्श वर्ण स्पृष्ट कहलाते हैं, क्योंकि इनके उच्चारण में जिह्वा मुख  के भिन –भिन अंगों को स्पर्श करती है।

३.     ईष्त्स्पृष्ट - इसका अर्थ है ‘थोड़ा खुला हुआ’। ‘य’, र, ल, व’ इन चार अन्त्स्थ स्वरों को ईषत्स्पृष्ट कहते हैं क्योंकि इन वर्णों के उच्चारण काल में जिह्वा विभिन्न उच्चारण-स्थानों को थोड़ा स्पर्श करती है।

४.     ईषद् विवृत- इसका अर्थ है थोड़ा खुला हुआ। ‘श, ष, स, ह’ से चार ऊष्म वर्ण ईषद् विवृत कहलाते हैं, क्योंकि इनके उच्चारण काल में मुख थोड़ा खुलता है।

बाह्य प्रयत्न
वर्णों के उच्चारण की समाप्ति पर होने वाले यत्न को बाह्य प्रयत्न कहते है।

बाह्य प्रयत्न के भेद:-
१.     घोष:- इसका अर्थ है- श्वास का स्वर तंत्रियों के साथ रगड़ से उत्पन्न होने वाला ‘नाद’
(क)  सभी स्वर – अ, आ, इ, ई, उ, ऊ, ऋ, ए, ऐ, ओ, औ।
(ख)  वर्णो के तृतीय , चतुर्थ पंचम वर्ण – ग, घ, ङ, ज, ञ, ड, ढ, ण, द, ध, न, ब, भ, म।
(ग)   अन्तस्थ वर्ण – य, र, ल, व
(घ)  ‘ह’ ।
(ङ)   ड़, ढ़, ज़ ।

२.     घोष – इसका अर्थ है – केवल श्वास का प्रयोग होता है और स्वर तंत्रियों में झंकार नहीं होती।
(क) वर्णो के पेहले, दूसरे वर्ण – क, ख, च, छ, ट, ठ, त , थ, प ,फ।
(ख)  श, ष, स। ये सब वर्ण अघोष कहलाते हैं।

श्वास के आधार पर बाह्य प्रयत्न के भेद:-

१.      अल्प प्राण- इसका अर्थ है – श्वास का कम खर्च होना।
(क) वर्णो के पहले, तीसरे और पाँचवें वर्ण- क, ग, ङ, च, ज, ञ, ट, ड,ण, त, द, न, प, ब, म।
(ख) अन्तस्थ – य, र, ल , व।
(ग)  सभी स्वर – आ इ ई, उ ऊ ऋ ए ऐ ओ औ।

२.      महाप्राण – इसका अर्थ है- श्वास का अधिक खर्च होना।
(क) वर्णों के दूसरे चौथे वर्ण – ख, घ, झ, ठ, ढ, ध, फ, भ।
(ख) श, ष, स , ह।
(ग)  विसर्ग (ः) ये सब महाप्राण हैं।
logo
Dictionary Logo

ए और ऐ की मात्राएँ

ए और ऐ की मात्राएँ

१.     ‘ए’ के मूल रुप में उसके ऊपर कोई मात्रा चिन्ह नहीं होता। जैसे- एक, एकता आदि।

२.     ‘ऐ” के मूल रुप में उसके ऊपर केवल एक ही मात्रा चिन्ह (ऐ) होता है।
जैसे- ऐनक , ऐसा, ऐतिहासिक आदि।

३.     ‘ए’ की मात्रा व्यंजन के ऊपर ऐसे लिखते हैं- केला, मेला, ढेला, अकेला आदि।

४.     ‘ऐ’ की मात्रा व्यंजन पर इस प्रकार लिखते हैं- कैसा, पैसा, कैलाश आदि।

र् का प्रयोग 
१.     र् + उ = रु – रुपया, गुरु आदि।

२.     र् + ऊ = रू – रूप, रूपक, रूठा आदि।

३.     यदि र् की ध्वनि किसी व्यंजन से पहले सुनाई दे तो उसे उस व्यंजन के ऊपर लिखते हैं। जैसे – धर्म, कर्म, कार्य, आर्य आदि।

४.     यदि र् की ध्वनि किसी व्यंजन के बाद सुनाई दे तो उसे व्यंजन के नीचे लिखते हैं। जैसे – क्र, क्रम, प्रकाश, फिक्र, ड्रम आदि।

संयुक्त व्यंजन

१.     क् + ष = क्ष – क्षमा, क्षेत्र, परीक्षा 

२.     ज् + ञ = ज्ञ – ज्ञान, यज्ञ, ज्ञेय

३.     त् + र = त्र – त्रिगुण, यात्रा, पत्र

४.     श् + र = श्र – श्रम, परिश्रम, श्रीमान


उच्चारण स्थान – मुख के जिस वर्ण का उच्चारण किया जाता है, वह भाग उस वर्ग का उच्चारण स्थान कहलाता हैं। जैसे- त, थ, द, ध का उच्चारण ‘दन्त’ से होता है इसलिए वे दन्त्य कहलाते है।

उच्चारण स्थान तालिका

क्रम        स्थान         स्वर                   व्यंजन                                  नाम

१.              कण्ठ              अ, आ            कवर्ग – क,ख,ग,घ,और विसर्ग (ः)            कण्ठ्य
२.              तालु             इ, ई              चवर्ग- च,छ,ज,झ,य् और श                       तालव्य
३.              मूर्ध्दा                             टवर्ग-  ट,ठ,ड, ढ,र और ष                       मूर्ध्दन्य
४.              दन्त                -                तवर्ग – त,थ,द,ध,ल और स                     दन्त्य
५.             ओष्ठ               उ, ऊ             पवर्ग -  प,फ,ब,भ,म                              ओष्ठ्य
६.             नासिक           अं, अँ                         ङ, ञ,ण,न,म                             नासिक्य
७.             कण्ठ तालू       ए, ऐ                                 -                                     कण्ठ तालव्य
८.             कण्ठ- ओष्ठ       ओ, औ                             -                                     कण्ठोष्ठ्य
९.            दन्तोष्ठ                  -                                व औ फ                            दन्तोष्ठ्य
     १०.               स्वर यंत्र                                                                                    अलिजिह्व   

Sheels Hindi to English Dictionary
logo
Dictionary Logo

स्वरों की मात्राएँ एवं उच्चारण

स्वरों की मात्राएँ

जिस प्रकार हमने स्वर और व्यंजन के भेद समझे उसी प्रकार अब हम स्वरों की मात्राएँ समझेंगे। जिस प्रकार स्वर के बिना व्यंजन अधुरा है, ठीक उसी प्रकार मात्राओं के बिना शब्द अधूरा है। पूर्ण शब्द बनाने के लिए स्वर एंव उसकी मात्राएँ दोनों का होना आवश्यक है।
जब स्वरों का प्रयोग व्यंजनों के साथ मिल कर किया जाता है, तब उनकी मात्राएँ ही उनके साथ लगती हैं। हिन्दी में ‘अ’ वर्ण की कोई मात्रा नही होती । ‘अ’ वर्ण सब व्यंजनों में पहले होता है। बिना ‘अ’ से रहित व्यंजन इस प्रकार लिखे जाते हैं  क् , ख् , ग् आदि। ‘अ’ से युक्त व्यंजन इस प्रकार लिखे जाते हैं – क, ख , ग आदि। 
क्रम        स्वर              बिना स्वर               स्वर युक्त                 शब्द
 के व्यंजन              व्यंजनों का रुप      
१.                                      च्   + अ                                                     चल
२.                                     च्  + आ                        चा                            चाचा
३.                                       च्   +                         चि                            चिन्ह
४.                                       च्    +                        ची                            चीख
५.                                       च्    +                        चु                             चुप
६.                                      च्    +                         चू                            चूजा
७.                                      क्    +                        कृ                             कृपा
८.                                       च्    +                         चे                             चेला
९.                                       च्    +                         चै                             चैन
१०.                                         च्    +                      चो                            चोर
११.                                         च्    +                      चौ                          चौराहा

स्वरों के उच्चारण 
स्वरों के उच्चारण दो प्रकार से होते हैः-
१.     केवल मुख से – इन्हें निरनुनासिक कहते हैं। जैसे – है , पूछ, इत्यादि ।
२.     मुख व नासिक दोनों से – इन्हें अनुनासिक कहते हैं। जैसे – हैं, पूँछ, इत्यादि।

अनुस्वार और अनुनासिक
अनुस्वार (ं) का उच्चारण कहते समय श्वास नाक (नासिका) के द्वारा निकालता है।
जैसे – कंस, हंस, मांग, कंगन, संग आदि।
अनुनासिक (ँ) का उच्चारण मुख तथा नासिका दोनों से होता है।
जैसे – आँख, चाँद, हँसना आदि।

logo
Dictionary Logo

स्वर एवं व्यंजन के भेद

स्वर एवं व्यंजन के भेद
          अभी तक हमने पढ़ा कि स्वर ओर व्यंजन कौन कौन से होते है । अब हमें यह जानना है कि कोइ भी शब्द का यदि हम उच्चारण करते या लिखते है जो उसमे स्वर एंव व्यंजन दोनो का प्रयोग आवश्यक होता है। स्वर और व्यंजन के भेदो का ज्ञान प्राप्त करने के पश्चात ही हम पूर्ण अक्षर ज्ञान प्राप्त कर सकते है इसलिये हमे अब स्वरों एंव व्यंजनों के भेद उनकी मान्नाएँ एंव उनका किस प्रकार प्रयोग किया जाता है, यह जानना आवश्यक है। बिना स्वर की सहायता के कोई भी व्यंजन पूर्ण नही होता है।
स्वर के तीन भेद होते है, जो निम्नलिखित हैः-
१. हस्व – जिन स्वरों के बोलने में थोडा समय लगता है वे हस्व स्वर कहलाता है । 
    जैसेः  अ, इ, उ, ऋ
२. दीर्घ जिन स्वरों के उच्चारण में हस्व स्वर से दुगना समय लगता है, वे दीर्घ स्वर कहलाता है। 
     जैसेः– आ, ई, ऊ, ए, ऐ, ओ, औ
३. प्लुत जिन स्वरों के उच्चारण में दीर्घ स्वरों से अधिक समय लगता है, उन्हें प्लुत स्वर कहते है। 
    जैसेः ओ३म् , हे कृष्णा३। किन्तु आजकल (३) का प्रयोग लिखाई में नही किया जाता।
 व्यंजन अपने आप में अधुरे होते है, जब उसमें स्वर मिलायें जाते है तब ही पूर्णता प्राप्त करते है ।जेसे उदाहरण के लिए – यह क् अधुरा है जब इसमें अ मिलाया जायेगा  क् + अ = क तब यह पूर्ण रुप से क बन जायेगा इसी प्रकार सारे व्यंजन स्वर से मिलने पर पूर्णता प्राप्त करते है – अतः स्वरों की सहायता लेकर ही व्यंजन बनता है ।
व्यंजन के भेद निम्नलिखित हैं–
१.  स्पर्श व्यंजन
          क वर्ग -  क ख ग घ ङ
          च वर्ग -  च छ ज झ ञ
          ट वर्ग – ट ठ ड ढ ण
          त वर्ग – त थ द ध न
          प वर्ग – प फ ब भ म
२.  अन्तस्थ व्यंजन     
 य  र ल व
३. ऊष्म व्यंजन
                      श ष स ह
स्पर्श व्यंजन –  ‘क’ से ‘म’ तक २५ वर्ण मुख के विभिन्न भागों में जिह्वा के स्पर्श से बोले जाते है । इसलिए इन्हे स्पर्श व्यंजन कहते है ।
अन्तस्थ व्यंजन-  ‘य,र,ल,व’- ये चार ऐसे वर्ण हें, जिनके अन्दर स्वर छिपे है, अतः इन्हें अन्तस्थ व्यंजन  कहते है ।
ऊष्म व्यंजन –  ‘श, ष, स – इन चार वर्णों के उच्चारण में मुख से विशेष प्रकार की गर्म (ऊष्म) वायु निकलती है, इसलिए इन्हें ऊष्म व्यंजन कहते है । इनके उच्चारण में  श्वास की प्रबलता रहती है ।
अयोगवाह – अनुसार (ं) और विसर्ग (ः) को अयोगवाह कहते है।
अनुस्वार -  चंचल, मंगल, विसर्ग – प्रातः अतः
अनुनासिक – चन्द्रबिन्दु (ँ) । अतिरिक्त – ड़, ढ़

Sheels Hindi to English Dictionary 
logo
Dictionary Logo