विशेषणों की रचना


विशेषणों की रचना

कुछ शब्द मूल रुप से विशेषण होते है । कुछ विशेषण शब्दों की रचना निम्नलिखित शब्दों से की जाती है । 

१.सर्वनाम शब्दों से -  

सर्वनाम             विशेषण              सर्वनाम                        विशेषण
यह                         ऍसा                       कोई                                 कोई सा
वह                         वैसा                       कौन                                कौन सा
मै                          मुझसा, मेरा             आप                                 आप सा
जो                         जैसा
 
२.क्रिया शब्दों से      

क्रिया                       विशेषण                        क्रिया                विशेषण
पठ                                  पठित                               लड़ना                     लड़ाकू
लिखना                            लिखित                            निन्दा                     निन्दित
कहना                              कथित                              पूजा                       पूजनीय
पत                                  पतित                               वन्द                       वन्दनीय
अपमान                           अपमानित                        भागना                   भागने वाला
रखना                              रखवाला                           कल्पना                   कल्पित
पालना                             पालने वाला                      झगड़ा                    झगड़ालु

३.संज्ञा शब्दों से – 

(क)  ‘ई’ प्रत्यय लगाने से बने विशेषण 

गुण                                  गुणी                                धन                        धनी
जापान                             जापानी                            स्वदेश                    स्वदेशी
पाप                                 पापी                                विदेश                     विदेशी
लोभ                                लोभी                               स्वार्थ                     स्वार्थी
अनुभव                             अनुभवी                            अधिकार                 अधिकारी
उपयोग                            उपयोगी                           बाहर                      बाहरी

(ख) ‘ई’ और ‘य’ प्रत्यय लगाने से 

प्रान्त                                प्रान्तीय                   स्वर्ग                                स्वर्गीय
जाति                               जातीय                    राष्ट्र                                 राष्ट्रीय
भारत                               भारतीय                  स्थान                               स्थानीय 

(ग) ‘इक’ प्रत्यय लगाने से - 

वर्ष                                  वार्षिक                   नगर                                नागरिक
मास                                मासिक                   समाज                              सामाजिक
दिन                                 दैनिक                     संसार                               सांसारिक
सप्ताह                              साप्ताहिक                साहित्य                            साहित्यिक
पक्ष                                  पाक्षिक                   शब्द                                शाब्दिक
परिवार                            पारिवारिक             तत्व                                 तात्विक
इतिहास                           एतिहासिक              देव                                  दैविक
वेद                                  वैदिक                     नीति                                नैतिक
अर्थ                                 आर्थिक                    कल्पना                             काल्पनिक

(घ) ‘इत’ प्रत्यय लगाने से – 

कुसुम                               कुसुमित                  अंक                                 अंकित
तरंग                                तरंगित                   कथ                                 कथित

(च) ‘इम’ प्रत्यय लगाने से –
स्वर्ण                                स्वर्णिम                            रक्त                        रक्तिम

(छ) ‘नीय’ प्रत्यय लगाने से –
आदर                               आदरणीय                         पूजा                       पूजनीय 

(ज) ‘शाली’ प्रत्यय लगाने से –
भाग्य                               भाग्यशाली                        शक्ति                      शक्तिशाली

कुछ विशेषण

दिल्ली                              देहलवी                            गान                       गवैया
लखनऊ                            लखनवी                           इच्छा                     इच्छुक
पश्चिम                              पश्चिमी                            बाजार                    बाजारु
पूर्व                                  पूर्वी                                 दया                       दयालु
उत्तर                                उत्तरी                               रंग                         रंगीला
देश                                  देशी                                 कुल                        कुलीन
अग्नि                                आग्नेय                              चमक                     चमकीला
शौक                                शौकीन                             ॠण                       ऋणी
प्यास                               प्यासी                              भूख                       भूखा
मिठास                             मीठा                                विष                       विषैला


logo
Dictionary Logo

विशेषणों की तीन अवस्थाएँ


विशेषणों की तीन अवस्थाएँ

१.मूलावस्था -   इसमें विशेषणों का सामान्य प्रयोग होता है । यहाँ किसी के साथ तुलना नही की जाती ।
जैसे – राम एक वीर बालक है ।
सीता एक सुन्दर कन्या हैं ।

२.उत्तरावस्था - इसमें दो वस्तुओं या व्यक्तियों की तुलना करके एक की न्युनता अथवा अधिकता बतलाई जाती हैं ।
जैसे - राम श्याम से अधिक वीर है ।
सीता गीता से सुन्दर है ।

३.उत्तमावस्था - इसमें दो से अधिक वस्तुओं या व्यक्तियों की तुलना की जाती हैं । उनमें एक की दूसरी सब वस्तुओं या व्यक्तियों से न्युनता या अधिकता बतलाई जाती हैं ।
जैसे - राम सबसे वीर हैं ।
सीता कक्षा में सुन्दरतम हैं ।

मूलावस्था                  उत्तरावस्था                          उत्तमावस्था
सुन्दर                               सुन्दरतर                                     सुन्दरतम
अधिक                              अधिकतर                                   अधिकतम
उच्च                                  उच्चतर                                       उच्चतम
कठोर                               कठोरतर                                    कठोरतम
तीव्र                                 तीव्रतर                                      तीव्रतम
लघु                                 लघुतर                                       लघुतम
महान                               महानतर                                    महानतम
मूलावस्था                         उत्तरावस्था                                 उत्तमावस्था
कोमल                              कोमलतर                                   कोमलतम
श्रेष्ठ                                  श्रेष्ठतर                                       श्रेष्ठतम
न्यून                                 न्यूनतर                                      न्यूनतम
चतुर                                चतुरतर                                     चतुरतम
प्रिय                                 प्रियतर                                      प्रियतम
मधुर                                मधुरतर                                     मधुरतम 

logo
Dictionary Logo

सर्वनाम और सार्वजनिक विशेषण में अन्तर


सर्वनाम और सार्वजनिक विशेषण में अन्तर

जो शब्द (यह, वह, कोई, आदि) संज्ञा के स्थान पर प्रयुक्त होते हैं और अकेले आते है तो, वे सर्वनाम कहलाते है । 

जब ये शब्द (यह, वह, कोई, कुछ आदि) संज्ञा के बदले आते है और संज्ञा की ओर संकेत करते है तो ये सार्वजनिक विशेषण बन जाते है । 

जैसे – (क) वह खेलता हैं । (सर्वनाम)
          वह फूल मेरा है । (विशेषण)

        (ख) कोई गा रहा है । (सर्वनाम)
            कोई बालक रो रहा है । (विशेषण)

संख्यावाचक विशेषण और परिमाण वाचक विशेषण में अन्तर

जो शब्द संज्ञा का ज्ञान कराएँ, उन्हें संख्यावाचक विशेषण कहतें है । गिनती कराने वाले शब्द संख्यावाचक होते है । जिन वस्तुओं की नाप तोल की जा सके, उनके वाचक शब्द परिमाण वाचक विशेषण कहलाते है । जैसे कुछ बालक खेल रहे है । (संख्यावाचक) कुछ पानी नीचे गिर गया । (परिमाणवाचक)

विशेषणों के विकार

१.विशेषण शब्द विकारी होते है । अतः विशेषणों के लिंग, वचन, और कारक विशेष्य के अनुसार बदलते हैं ।
जैसे – अच्छा बच्चा ।            अच्छी बच्ची ।
अच्छे बच्चे ।              अच्छी बच्चियाँ ।

अकारान्त पुल्लिंग विशेषणों के रुप बहुवचन में नही बदलते ।
जैसे – सुन्दर, किशोर, सभी सुन्दर बालक ।

२.हिन्दी में विशेषण शब्दों के आगे विभक्ति चिन्ह नही लगते ।
जैसे – वीर बालक का, ऊँचे घर में । यहाँ ‘वीर’ और ‘ऊँचे’ शब्द विशेषण हैं । इनमें कारक चिन्ह नही लगे ।

३.आकारान्त विशेषण बहुवचन में परिवर्तित होते समय ‘एकारान्त’ हो जाते है ।
जैसे –अच्छा लड़का, अच्छे लड़के ।

४.कुछ तत्सम विशेषणों के तत्सम स्त्रीलिंग रुपों का ही प्रयोग किया जाता हैं ।
जैसे – विदुषी कन्या, रुपवती पत्नी । 

५.अनेक बार विशेष्य का लोप कर विशेषणों का ही संज्ञा के रुप में प्रयोग किया जाता है ।
जैसे – बडों का आदर करों । वीरों का सम्मान करो । 

logo
Dictionary Logo

विशेषण के भेद


विशेषण के भेद

१.गुणवाचक विशेषण - अच्छा, बुरा
२.संख्यावाचक विशेषण - दो, चार
३.परिमाणवाचक विशेषण – पाँच किलो दूध
४.संकेतवाचक विशेषण - यह घोड़ा, वह आदमी 

१.गुणवाचक विशेषण – जो शब्द संज्ञा या सर्वनाम शब्दों में गुण अथवा दोष (रंग, आकार, स्थान, समय आदि) बताएँ, उन्हें गुणवाचक विशेषण कहते हैं । 

          जैसे – गुण - सुन्दर, बलवान, विद्वान आदि ।
                   दोष -   बुरा, लालची, दुष्ट ।
                   रंग - लाल, पीला, सफेद आदि ।
                   अवस्था - लम्बा, पतला, अस्वस्थ आदि ।
                   स्वाद -    खट्टा, नमकीन, मीठा आदि । 

२.संख्यावाचक विशेषण - जो विशेषण संज्ञा या सर्वनाम की संख्या सम्बन्धी विशेषता का बोध कराएँ, वे संख्यावाचक विशेषण कहलाते हैं ।
  जैसे -    एक पुस्तक, पाँच व्यक्ति, कुछ घोड़े आदि । 

संख्यावाचक विशेषण के भेद   

(क) निश्चित संख्यावाचक - जिस विशेषण द्वारा निश्चित संख्या का बोध होता है, वह निश्चित संख्यावाचक विशेषण होता हैं । जैसे – पाँच बालक, दस आम आदि । 

(ख) अनिश्चित संख्यावाचक - जिस विशेषण से निश्चित संख्या का बोध नही होता । जैसे – कुछ छात्र, अनगिनत लोग, हजारों दर्शक आदि । 

निश्चित संख्यावाचक के भेद
(क) पूर्ण संख्याबोधक – एक, दो, तीन, इन्हें गणनावाचक विशेषण भी कहते हैं ।
(ख) अपूर्ण संख्याबोधक – आधा, (१/२), पोन (३/४), पाव (१/४) आदि ।
(ग) क्रमवाचक – पहला, दूसरा, तीसरा आदि ।
(घ) आवृतिवाचक – दुगुना, तिगुना, चौगुना आदि ।
(च) समुदायवाचक – दर्जन (१२), चालीसा, बत्तीसी आदि ।
(छ) प्रत्येक बोधक – हर, प्रत्येक आदि ।

३.परिमाणवाचक विशेषण - जो विशेषण किसी वस्तु की नाप–तौल या मात्रा का बोध कराते हैं, वे परिमाणवाचक विशेषण कहलाते हैं ।जैसे – बहुत आटा, लीटर भर दूध आदि ।

परिमाण वाचक विशेषण के भेद

(क) निश्चित परिमाण वाचक - पाँच लीटर घी, दस किलो आलू । यहाँ निश्चित परिमाण का बोध कराया गया हैं ।

(ख) अनिश्चित परिमाण वाचक –थोड़ा पानी, कुछ आटा जरा नमक आदि ।
यहाँ परिमाण का ज्ञान तो हो रहा है, किन्तु निश्चित नही ।

४.सार्वजनिक विशेषण या संकेतवाचक विशेषण – जो सर्वनाम शब्द संकेत द्वारा किसी संज्ञा की विशेषता बताएँ, उन्हें संकेत वाचक या सार्वजनिक विशेषण कहते हैं । 


logo
Dictionary Logo

विशेषण


विशेषण

सर्वनाम का अपना स्वतंत्र व्यक्तित्व नही होता, वह संज्ञा पर आश्रित है । जब संज्ञा सामने न हो तो वह उसके स्थान पर प्रयोग में लाया जाता है । उस स्थिति में वह संज्ञा जैसा ही महत्व पा जाता है; अतएव संज्ञा और सर्वनाम दोनों की ही विशेषता का बोध कराने वाले शब्द विशेषण कहलाते है । उदाहरण के लिए निम्नलिखित वाक्यों को ध्यान से दिखिए – 

१.अच्छे लोग कभी झुठ नही बोलते ।
२.यह लड़का बहुत बुद्धिमान है ।
३.तीन लड़के उधर जा रहे थे ।
४.कुछ कुत्ते भौंक रहे थे ।
५.कुछ दूध ले आओ ।
६.पाँच किलो दूध मोहन को दे दो ।

उपर्युक्त वाक्यों में अच्छे, यह, तीन, कुछ, और पाँच शब्द क्रमशः लोग, लड़का, कुत्ते, दूध आदि संज्ञा शब्दों की भिन्न –भिन्न प्रकार की विशीषताओं का बोध करा रहे है; अतएव ये शब्द विशेषण हैं ।

संज्ञा अथवा सर्वनाम पद की किसी भी विशेषता का बोध कराने वाले शब्द विशेषण कहलाते हैं । जैसे – अच्छा, बुरा, थोड़ा, अधिक, तीन, चार, यह, वह, वे आदि । 

विशेष्य – जिस संज्ञा या सर्वनाम शब्द की विशेषता बताई जाती है, उसे विशेष्य कहते है ।
जैसे – उस फूल को वह सुन्दर लड़का ले गया और काले घोड़े पर चढ़कर भाग गया ।

सुन्दर फूल -             सुन्दर-                    विशेषण
                             फूल  -                    विशेष्य 

अच्छा लड़का           अच्छा   -                विशेषण
                             लड़का  -                 विशेष्य 

काला घोड़ा             काला   -                 विशेषण
                             घोड़ा   -                  विशेष्य

प्रविशेषण - जो शब्द विशेषण की विशेषता बताए, उन्हें प्रविशेषण कहते हैं ।
जैसे –   (क) यह आम बहुत मीठा हैं ।
          यहाँ ‘बहुत’ शब्द ‘मीठा’ विशेषण की विशेषता बता रहा हैं, अतः प्रविशेषण हैं ।
           (ख) शत्रुघ्न दशरथ का सबसे छोटा बेटा था ।
          यहाँ ‘सबसे’ शब्द ‘छोटा’ विशेषण की विशेषता बतला रहा है अतः यह प्रविशेषण हैं ।


logo
Dictionary Logo