लिंग–भेद


लिंग–भेद

शब्द के जिस रुप से यह बोध होता हो कि वह पुरुष जाति का है, अथवा स्त्री जाति का, उसे लिंग कहते है । लिंग दो प्रकार के होते है 

१. पुल्लिंग :- पुरुष जाति का बोध कराने वाले पुल्लिंग कहलाते है ।
जैसे – दरवाजा, पंखा, कुत्ता, भवन, पिता, भाई, शेर आदि ।

२. स्त्रीलिंग :- स्त्री जाति का बोध कराने वाले शब्द स्त्रीलिंग कहलाते है ।
जैसे – खिड़्की, कुर्सी, लोमड़ी, झोंपड़ी, माता, बहन आदि ।

लिंग निर्माण की प्रक्रिया मे कठिनाई और उसका समाधान

                   हिन्दी मे लिंग निर्णय का आधार यद्यपि संस्कृत के नियम ही है ,किन्तु संस्कृत मे हिन्दी से अलग एक तीसरा लिंग भी है ,जिसे नपुंसकलिंग कहते है ।अप्राणीवाचक संज्ञाओं को इसी वर्ग मे रखा जाता है । हिन्दी मे अप्राणीवाचक संज्ञाओं के लिंग –निर्णय मे प्राय; उन लोगों को कठिनाई होती है , जिनकी मातृभाषा हिन्दी नही है ।हिन्दी भाषियों को सहज व्यवहार के कारण लिंग निर्णय मे कठिनाई नही पड़्ती । जैसे – पंखा ,फर्श ,दीवार ,खिड़्की ,कौआ ,मछली ,आदि शब्दों के लिंग –निर्णय मे यह कठिनाई अहिंदी भाषियों को सहज रुप मे ही आती है ,जबकि हिन्दी भाषियों के लिये इनके निर्णय मे विशेष कठिनाई नही होती ।यह भी एक झंझट हे कि कुछ पुल्लिंग शब्दों के पर्यायवाची स्त्रीलिंग है तो कुछ स्त्रीलिंग शब्दों के पुल्लिंग , जैसे ‘पुस्तक’ स्त्रीलिंग हे तो ‘ग्रंथ’  पुल्लिंग ।

हिन्दी मे लिंग–निर्णय के कुछ नियम व्याकरणाचार्य ने सुझाए है, किन्तु उन सभी मे अपवाद है। फिर भी लिंग–निर्णय मे संबधित कुछ नियम नीचे दिये गये है :

१. प्राणीवाचक संज्ञाएँ यदि पुरुष जाति का बोध कराए तो, वे पुल्लिंग और यदि स्त्रीजाति का बोध कराए, तो स्त्रीलिंग होती है ।
जैसे:  १.पुल्लिंग – कुत्ता, हाथी, सिंह, शिक्षक । २.स्त्रीलिंग – कुतिया, हथिनी, सिंहनी, शिक्षिका ।

२. नित्य पुल्लिंग – कुछ प्राणीवाचक संज्ञाएँ पुल्लिंग या स्त्रीलिंग का बोध कराने पर भी नित्य पुल्लिंग के अन्तर्गत आती है ।जैसे – चीं-चीं, खरगोश, भेड़िया, खटमल, उल्लु, तोता, मच्छर, गैड़ा, भालू आदि ।

नित्य स्त्रीलिंग – कोमल, चील, दीमक, मछली, तितली, लोमड़ी, गिलहरी, मक्खी, छिपकली आदि ।
logo
Dictionary Logo

Creation of abstract noun (भाववाचक संज्ञाओं की रचना)


भाववाचक संज्ञाओं की रचना

भाववाचक संज्ञाएँ पाँच प्रकार के शब्दों से बनती है ।

१.संज्ञा शब्दों से भाववाचक

संज्ञा शब्द           भाववाचक संज्ञा          संज्ञा शब्द                भाववाचक संज्ञा
बाल                       बालपन                            देव                                  देवत्व

बालक                    बालकपन                         नारी                                नारीत्व

बच्चा                       बचपन                             स्त्री                                  स्त्रीत्व

लडका                    लड़कपन                           पुरुष                                पुरुषत्व

मनुष्य                     मनुष्यता                           पशु                                  पशुत्व

भार                       भारीपन                           मित्र                                मित्रता

किशोर                    किशोरपन                         दास                                 दासता

मानव                     मानवता                           प्रभु                                  प्रभुता

पंडित                     पांडित्य                            शत्रु                                 शत्रुता

क्षत्रिय                    क्षत्रियत्व                           विद्वान                             विद्वत्ता

शिशु                      शैशव                               साधु                                साधुता

पंच                        पंचायत                            गुरु                                  गुरुता

बन्धु                       बन्धुत्व                             युवा                                 यौवन

नर                         नरत्व                               मीत                                 मिताई

देव                         देवत्व                               सुजन                               सौजन्य

अमर                      अमरत्व                            चोर                                 चोरी

क्षत्रिय                    क्षत्रियत्व                           सखा                                सख्य

ब्राह्मण                    ब्राह्मणत्व                          इंसान                              इंसानियत

डाकु                       डाका, डकैती                     ईश्वर                                ईश्वर्य
                            

२.सर्वनाम शब्दों से भाववाचक

 मम                        ममत्व                              अहम्                               अहंकार

अपना                     अपनत्व, अपनापन             अपना                              आपा

निज                       निजत्व                             पराया                              परायापन

.विशेषण से भाववाचक

विशेषण          भाववाचक संज्ञा             विशेषण                     भाववाचक संज्ञा
सरल                      सरलता                            निपुण                              निपुणता

सुन्दर                     सुन्दरता                            मधुर                                मधुरता 

चतुर                      चतुरता                            रिक्त                                रिक्तता

निर्बल                     निर्बलता                          तीक्ष्ण                              तीक्ष्णता

सफल                     सफलता                           प्रवीण                              प्रवीणता

उदार                      उदारता                            वक्र                                वक्रता

वाचाल                   वाचालता                         सीतल                              सीतलता

कायर                     कायरता                           कातर                               कातरता

धीर                        धीरता                              मीठा                                मीठास

वक्र                        वक्रता                              खट्टा                                खटास

अच्छा                    अच्छाई                            बड़ा                                 बड़प्पन

बुरा                        बुराई                               छोटा                               छुटपन

भला                      भलाई                              तीखा                               तीखापन

ढीठ                        ढिठाई                              बाँका                               बाँकपन

नीचा                      निचाई                             लघु                                 लाघव

उँचा                       उँचाई                              साधु                                साधुत्व

लम्बा                     लम्बाई                             बूढ़ा                                 बुढ़ापा

मोटा                      मोटाई                              राँड                                 रँडापा

उचित                     औचित्य                            चिकना                             चिकनापन     

जँगली                    जंगलीपन                         बंध्या                               बंध्यात्व

गंभीर                     गंभीरता                           मूर्ख                                 मूर्खता

मूढ़                        मूढ़्ता                               आवश्यक                          आवश्यकता

४. क्रिया से भाववाचक

क्रिया           भाववाचक संज्ञा                   क्रिया                   भाववाचक संज्ञा
लेना                       लेन                                  कूदना                               कूद

देना                       देन                                  ठगना                               ठगी    

चलना                    चाल                                हँसना                               हँसी

चढ़ना                     चढ़ाई                               पूजना                               पूजा

उतरना                   उतराई                             लूटना                               लूट

रोना                      रुलाई                               खेलना                              खेल

सींचना                   सिंचाई                             थकना                              थकान

कमाना                   कमाई                              जीना                                जीवन

लिखना                   लिखाई                             उड़ना                               उड़ान

काटना                    कटाई                               बहना                               बहाव

दौड़ना                    दौड़                                 भिड़ना                             भिड़न्त

सजना                    सजावट                            चमकना                           चमक

बहना                     बहाव                               कोंधना                            कोंध

बनना                     बनावट                             चूकना                              चूक

मुस्कराना                मुस्कराहट                         भूलना                              भूल

पहचानना               पहचान                            गाना                                गान

चुनना                     चुनाव                              नहाना                              नहान       
    
मिलना                    मिलाप                            पहनना                             पहरावा

धोना                      धुलाई                              थिरकना                           थिरकन

रँगना                     रँगाई                               पालना                              पालन

हारना                    हार                                 बरसना                             बारिश

जीतना                   जीत                                बौखलाना                         बौखलाहट

रँगत                       रंगाई                               जागना                             जागरण

बोना                      बुवाई                               माँगना                             माँग

जाग्रत होना             जाग्रति                             कहना                              कहावत
                  

५.विस्मयादिबोधक से भाववाचक

वाह –वाह               वाह-वाही                         हा-हा                               हाहाकार
logo
Dictionary Logo

व्यक्तिवाचक संज्ञा का जातिवाचक के रुप में प्रयोग


व्यक्तिवाचक संज्ञा का जातिवाचक के रुप में प्रयोग

व्यक्तिवाचक संज्ञा का प्रयोग सदा एकवचन मे होता है, परन्तु जब कोई व्यक्तिवाचक संज्ञा किसी व्यक्ति विशेष का बोध न कराके उस व्यक्ति के गुण दोषों वाले व्यक्तियों [अन्य] का बोध कराती है, तब वह संज्ञा व्यक्ति वाचक न रहकर जातिवाचक संज्ञा बन जाती है । जैसे:– 

१.कलियुग में हरिश्चन्द्रों की कमी नही है ।
यहाँ ‘हरिश्चन्द्र’ व्यक्तिवाचक संज्ञा उसके ‘सत्य’ और ‘निष्ठा’ के गुण को प्रगट करने से जातिवाचक संज्ञा बनी । 

२.हमें भारत में जयचन्द्रों पर कडी नजर रखनी चाहिये ।
यहाँ ‘जयचन्द’ शब्द व्यक्तिवाचक संज्ञा होते हुए भी उसके ‘विश्वासघात’ गुण को प्रकट करने के कारण अन्य व्यक्तियों का बोध कराती है ।अत: यह जातिवाचक संज्ञा है ।

जातिवाचक संज्ञा का व्यक्तिवाचक के रुप मे प्रयोग

जब कोई जातिवाचक संज्ञा किसी विशेष व्यक्ति के लिये प्रयुक्त हो, तब वह जातिवाचक संज्ञा होते हुए भी व्यक्तिवाचक संज्ञा बन जाती है । जैसे:– 

१. पंडितजी देश के लिये कई बार जेल गए ।
२. गाँधीजी ने देश के लिए अपना तन–मन–धन लगा दिया ।

यहाँ ‘पंडितजी ‘और ‘गाँधीजी ‘शब्द जातिवाचक होते हुए भी व्यक्ति विशेष अर्थात् पंडित जवाहरलाल नेहरु और महात्मा गाँधी के लिये प्रयुक्त हुए है ।अतः यहाँ ये दोनों शब्द व्यक्तिवाचक हो गए है । 

नोट :– 
१. जब कभी ‘द्रव्यवाचक ‘संज्ञा शब्द बहुवचन के रुप में द्रव्य के प्रकारों का बोध कराते है, तब वे जातिवाचक संज्ञा बन जाते है । जैसे – यह फर्नीचर कई प्रकार की लकडियों से बना है ।

२.जब कभी भाववाचक संज्ञा शब्द बहुवचन में प्रयुक्त होते है, तब वे जातिवाचक संज्ञा शब्द बन जाते है । जैसे – क)   बुराइयों से बचो   । ख) हमारी दूरियाँ बढ़ती जा रही है ।
logo
Dictionary Logo

Noun and its types

संज्ञा (Noun)

किसी वस्तु, प्राणी, स्थान, भाव, गुण, या स्थिति के नाम को संज्ञा कहते है । जैसे – सचिन, मोर, आगरा, कोमलता, ज्ञान, गरीबी आदि । ये सभी शब्द नाम है । नाम को ही संज्ञा कहते है । 

सचिन व्यक्ति का नाम है, मोर प्राणी का नाम है, आगरा एक नगर का नाम है । कोमलता एक भाव का नाम, ज्ञान गुण का और गरीबी एक स्थिति का नाम है । ये सभी नाम संज्ञा शब्द कहलाते है ।

संज्ञा के भेद

संज्ञा के मुख्य रुप से निम्नलिखित तीन भेद होते है –
१ . व्यक्तिवाचक संज्ञा 
२ . जातिवाचक संज्ञा
३ . भाववाचक संज्ञा 

१. व्यक्तिवाचक संज्ञा  जिस पद से किसी विशेष व्यक्ति, स्थान, अथवा वस्तु के नाम का बोध हो, उसे व्यक्तिवाचक संज्ञा कहते है । जैसे – गाँधी जी, अहमदाबाद, ताजमहल आदि ।

२.जातिवाचक संज्ञा – जिस पद से किसी व्यक्ति, स्थान, वस्तु, अथवा प्राणी के जातिसूचक नाम का बोध हो, उसे जातिवाचक संज्ञा कहते है । जैसे – आदमी, नगर, मकान आदि ।

३. भाववाचक संज्ञा – जिस संज्ञा पद से किसी स्थिति, गुण अथवा भाव से नाम का बोध होता हो, उसे भाववाचक संज्ञा कहते है ।जैसे – सफलता, ममता, अमीरी, शक्ति आदि ।

कुछ विद्वान अंग्रेजी व्याकरण के आधार पर संज्ञा के और भी दो भेद मानते है ।
१. द्र्व्यवाचक संज्ञा 
२. समूहवाचक संज्ञा  

१. द्रव्यवाचक संज्ञा जिन संज्ञा शब्दों से द्रव्य अथवा धातु का बोध होता है उन्हें द्रव्य वाचक संज्ञा कहते है ।इन संज्ञाओं को नापा या तोला जाता है । जैसे – सोना, चाँदी, दूध, तेल आदि ।

२. समूहवाचक संज्ञा – समूह के नाम का बोध कराने वाली संज्ञा को समूहवाचक अथवा समुदायवाचक संज्ञा कहते है ।जैसे – कक्षा, समाज, झुंड, भीड आदि ।

{ हिन्दी में द्रव्यवाचक संज्ञाएँ जातिवाचक की ही भेद मानी जाती है }
logo
Dictionary Logo