कर्तृवाच्य से कर्मवाच्य बनाने की विधि


कर्तृवाच्य से कर्मवाच्य बनाने की विधि

कर्तृवाच्य के वाक्यों को कर्मवाच्य के वाक्यों में बदलने के लिए निम्नलिखित नियमों को ध्यान में रखिए - (क) कर्तृवाच्य कर्ता के साथ यदि कोई विभक्ति लगी हो तो उसे हटाइये ।
(ख) कर्तृवाच्य की क्रिया को सामान्य भूत में बदलिए ।
(ग) इसमें ‘से’ अथवा ‘के द्वारा’ का प्रयोग कीजिए ।
उस बदले हुए रुप के साथ काल, पुरुष, वचन और लिंग के अनुरुप ‘जाना’ क्रिया का रुप जोड़िए । उदाहरण -          कर्तृवाच्य                                        कर्मवाच्य
                   रमेश कहानी लिखता है ।                  रमेश से कहानी लिखी जाती है
                   सीता ने कहानी लिखी                      सीता के द्वारा कहानी लिखी गई
                    महेश कहानी लिखेगा                      महेश से कहानी लिखी जाएगी
                   मां! ने पुत्र को डाटाँ                         माँ के द्वारा पुत्र डाटाँ गया
                   ताजमहल शाहजहाँ ने बनवाया था    ताजमहल शाहजहाँ द्वारा बनवाया गया था
                   माँ ने छोटे बच्चे को सुला दिया            माँ के द्वारा छोटा बच्चा सुला दिया गया
                   बच्चे खेलेगें                                       बच्चों से खेला जायगा ।

 कर्तृवाच्य से भाववाच्य बनाना

कर्ता के आगे ‘से’ अथवा ‘के द्वारा’ लगाने से कर्तृवाच्य भाववाच्य में बदल जाता है –
          कर्तृवाच्य                                             भाववाच्य
रेखा हँस रही है                                    रेखा से हँसा जा रहा है
बालक चटाई पर सो रहा था                    बालक द्वारा चटाई पर सोया जा रहा था 

मुख्य क्रिया को सामान्य भूतकाल की क्रिया को एकवचन में बदलकर उसके साथ धातु के एकवचन, पुल्लिंग, अन्य पुरुष का वही काल लगा दें जो कर्तृवाच्य का है, तब यह भाववाच्य में बदल जाता है 
          कर्तृवाच्य                                             भाववाच्य
बच्चें खेलेगें                                       बच्चों से खेला जाएगा
पक्षी आकाश में उड़ते हैं                      पक्षियों द्वारा आकाश में उड़ा जाता है 

कुछ इस प्रकार के उदाहरण भी भाववाच्य में पाये जाते है –
                   उससे बैठा तक नही जाता                        अब तो सहा नही जाता
                        कर्तृवाच्य                                                           भाववाच्य
                   मोहन नही उठता                                            मोहन से उठा नही जाता
                   घोड़ा नही चलता                                            घोड़े से चला नही जाता
                   मैं नही पढ़ता                                                  मुझसे पढ़ा नही जाता
                   वे हँसते नही                                                   उनसे हँसा नही जाता
logo
Dictionary Logo

वाच्य


वाच्य

वाच्य- क्रिया के जिस रुप से यह जाना जाय कि क्रिया के व्यापार का मुख्य विषय कर्ता है, कर्म है या भाव है, उसे वाच्य कहते है ।
वाक्य में जिसकी प्रधानता होती है, पुरुष, लिंग और वचन में क्रिया उसी का अनुसरण करती है ।

वाच्य के भेद

१.कर्तृवाच्य- क्रिया का वह रुप, जिससे यह जाना जाय कि वाक्य की क्रिया के विधान (व्यापार) का मुख्य विषय कर्ता है, उसे कर्तृवाच्य कहते है ।
इसमे क्रिया के लिंग, वचन और पुरुष सदा कर्ता के अनुसार रहते है । इसमें अकर्मक और सकर्मक दोनों क्रियाओं का प्रयोग होता है ।
   अकर्मक क्रिया -          (क) सूर्य निकलता है ।
                                  (ख) बालक हँसता है ।
 सकर्मक क्रया -             (क) बच्चा पुस्तक पढ़ता है ।
                                  (ख) बच्चे पुस्तक पढ़ते है  
                                  (ग) रमेश पत्र लिखता है ।
                                   (घ) रानी गाना गाती है ।
ऊपर क्रिया का मुख्य विषय कर्ता है, अत: उनके लिंग, वचन और पुरुष कर्ता के अनुसार है ।

२.कर्मवाच्य – क्रिया का वह रुप जिससे यह जाना जाय कि वाक्य की क्रिया के विधान (व्यापार) का मुख्य विषय कर्ता न होकर कर्म है, उसे कर्मवाच्य कहते है ।
इसमें क्रिया के लिंग, वचन और पुरुष कर्म के अनुसार होते है ।
विशेष- कर्मवाच्य में केवल सकर्मक क्रियाओं का व्यहार होता है ।
जैसे – बालक से पत्र लिखा गया ।
बालिका से पत्र लिखा गया ।
यहाँ ‘पत्र’ कर्म है और क्रिया का विधान उसके अनुसार है, कर्ता बालक या बालिका के अनुसार नही है
अन्य उदाहरण – बालक से चिट्ठी लिखी जाएगी ।
                       बालक से कहानी पढ़ी जाती है । 

३.भाववाच्य – क्रिया के जिस रुप से यह जाना जाय कि विधान (व्यापार) का मुख्य विषय कर्ता या कर्म न होकर भाव है, उसे भाववाच्य कहते है । भाववाच्य की क्रिया सदा अन्य पुरुष, पुल्लिंग एकवचन में रहती है । इसमें केवल अकर्मक क्रियाओं का ही प्रयोग होता है ।
विशेष- भाववाच्य में प्राय; अशक्तता प्रगट करने के लिए ही क्रिया प्रयुक्त होती है । कभी कभी शक्तता भी प्रगट की जाती है ।
जैसे - (क) मोहन से लेटा नही जाता ।
          (ख) रीता से आज सोया नही गया ।
           (ग) बच्चों से यहाँ खेला नही जाएगा ।
  इस वाच्य की क्रिया में एक से अधिक क्रिया पद होते है । इसमें कर्ता के साथ ‘से’ लगाया जाता है ।
logo
Dictionary Logo

काल भेद की तालिका


काल भेद की तालिका

वर्तमान काल           सामान्य वर्तमान                 अपूर्ण वर्तमान                संदिग्ध वर्तमान
                             वह पत्र लिखता है ।        वह पत्र लिख रहा है ।        वह पत्र लिखता होगा ।

भूतकाल                  सामान्य भूतकाल                आसन्न भूतकाल                  पूर्ण भूतकाल
                             उसने पत्र लिखा            उसने पत्र लिख लिया है         वह पत्र लिख चूका था
                             अपूर्ण भूतकाल                   संदिग्ध भूतकाल            हेतुहेतुमद भूतकाल
                    वह पत्र लिख रहा था        उसने पत्र लिख लिया होगा    यदि वह पत्र लिखता तो, भेजता

भविष्यत काल      सामान्य भविष्यत       संभाव्य भविष्यत        हेतुहेतुमद भविष्यत
                           वह पत्र लिखेगा     शायद वह पत्र लिखे   यदि वह पत्र लिखेगा, तो उसे भेज देगा ।  

रुप रचना वर्तमान काल ‘लिखना’ सकर्मक धातु सामान्य वर्तमान
                   एकवचन                                              बहुवचन
पुल्लिंग                   स्त्रीलिंग                            पुल्लिंग                             स्त्रीलिंग
उ.पु. मैं लिखता हूँ     मैं लिखती हूँ            हम लिखते है                     हम लिखती है
म.पु. तू लिखता है     तु लिखती है             तुम लिखते हो                    तुम लिखती हो
अ.पु. वह लिखता है   वह लिखती है           वे लिखते है                       वे लिखती है 

अपूर्ण वर्तमान काल
पुल्लिंग                   स्त्रीलिंग                            पुल्लिंग                             स्त्रीलिंग
उ.पु. मैं लिख रहा हूँ        मैं लिख रही हूँ              हम लिख रहे है                   हम लिख रही है
म.पु. तू लिख रहा है      तू लिख रही है               तुम लिख रहे हो                 तुम लिख रही हो
अ.पु. वह लिख रहा है     वह लिख रही है             वे लिख रहे है                     वे लिख रही है 

संदिग्ध वर्तमान 
          पुल्लिंग                   स्त्रीलिंग                            पुल्लिंग                             स्त्रीलिंग
उ.पु. मैं लिखता हूँगा       मैं लिखती हूँगी             हम लिखते होगे                  हम लिखती होगी
म.पु. तू लिखता होगा       तू लिखती होगी           तुम लिखते होगे                  तुम लिखती होगी
अ.पु. वह लिख रहा है      वह लिख रही है            वे लिखते होगे                    वे लिखती होगी 

भुतकाल
सामान्य भूत 
                             एक वचन                                   बहुवचन
उ.पु.             मैंने लिखा                                            हमने लिखा
म.पु.            तूने लिखा                                             तुमने लिखा
अ.पु.            उसने लिखा                                          उन्होंने लिखा
आसन्न भूत
उ.पु.             मैंने लिखा है                                         हमने लिखा है
म.पु.             तूने लिखा है                                         तुमने लिखा है
अ.पु.            उसने लिखा है                                       उन्होंने लिखा है
पुर्ण भूत      
उ.पु.             मैंने लिखा था                                        हमने लिखा था
म.पु.             तूने लिखा था                                        तुमने लिखा था
अ.पु.            उसने लिखा था                                     उन्होंने लिखा था
अपूर्ण भूत
                             एकवचन                                    बहुवचन
उ.पु.             मैं लिख रहा था                                     हम लिख रहे थे
म. पु.            तू लिख रहा था                                      तुम लिख रहे थे
अ.पु.            वह लिख रहा था                                    वे लिख रहे थे
संदिग्ध भूत
उ.पु.             मैंने लिखा होगा                                      हमने लिखा होगा
म.पु.             तूने लिखा होगा                                      तुमने लिखा होगा
अ.पु.            उसने लिखा होगा                                    उन्होंने लिखा होगा
हेतुहेतुमद भूत
                   पुल्लिंग                   स्त्रीलिंग                  पुल्लिंग                   स्त्रीलिंग
उ.पु.             यदि मैं लिखता         यदि मैं लिखती         यदि हम लिखते        यदि हम लिखती
म.पु.             यदि तू लिखता         यदि तू लिखती         यदि तुम लिखते        यदि तुम लिखती
अ.पु.            यदि वह लिखता       यदि वह लिखती       यदि वे लिखते          यदि वे लिखती

भविष्यत् काल
१.सामान्य भविष्यत् 
                   एकवचन पु./स्त्री                                    बहुवचन पु./स्त्री
उ.पु.             मैं लिखुगाँ /गी                                       हम लिखेंगे /गी
म.पु.             तू लिखेगा/गी                                        तुम लिखोगे/गी
अ.पु.            वह लिखेगा/गी                                      वे लिखेगे/गी
२.संभाव्य भविष्यत्
उ.पु.             (शायद) मैं लिखूँ                                    (शायद) हम लिखें
म.पु.             (शायद) तू लिखे                                    (शायद) तुम लिखो
अ.पु.            (शायद) वह लिखे                                  (शायद) वे लिखे
३.हेतुहेतुमद् भविष्यत्
उ.पु.             (यदि) मैं लिखूँगा/गी                               (यदि) हम लिखेंगे/गी
म.पु.             (यदि) तू लिखेगा/गी                               (यदि) तुम लिखोगे/गी
अ.पु.            (यदि) वह लिखेगा/गी                             (यदि) वे लिखेगे/गी

‘हँसना’ अकर्मक धातु वर्तमान काल
१.सामान्य वर्तमान
उ.पु.             मैं हँसता हूँ               मैंहँसती हूँ                हम हँसते है              हम हँसती है
म.पु.             तू हँसता है               तू हँसती है               तुम हँसते हो            तुम हँसती हो
अ.पु.            वह हँसता है             वह हँसती है             वे हँसते है                वे हँसती है
२.अपूर्ण वर्तमान
उ.पु.             मैं हँस रहा हूँ            मैं हँस रही हूँ            हम हँस रहे हैं           हम हँस रही है
म.पु.             तू हँस रहा है            तू हँस रही है            तुम हँस रहो हो         तुम हँस रहो हो
अ.पु.            वह हँस रहा है          वह हँस रही है          वे हँस रहे है             वे हँस रही है
३.संदिग्ध वर्तमान
उ.पु.             मैं हँसता हूँगा           मैं हँसती हूँगी           हम हँसते होगे          हम हँसती होगी
म.पु.             तू हँसता होगा          तू हँसती होगी          तुम हँसते होगे          तुम हँसती होगी
अ.पु.            वह हँसता होगा        वह हँसती होगी        वे हँसते होगे             वे हँसती होगी
भूतकाल
१.सामान्य भूत
उ.पु.             मैं हँसा                    मैं हँसी                    हम हँसे                   हम हँसी
म.पु.             तू हँसा                    तुम हँसी                  तुम हँसे                   तुम हँसी
अ.पु.            वह हँसा                  वह हँसी                  वे हँसे                     वे हँसी
२.आसन्न भूत
उ.पु.             मैं हँसा हूँ                 मैं हँसी हूँ                 हम हँसे है                हम हँसी है
म.पु.             तू हँसा है                 तू हँसी है                 तुम हँसे हो               तुम हँसी हो
अ.पु.            वह हँसा है               वह हँसी है               वे हँसे है                  वे हँसी है
३.पूर्ण भूत
उ.पु.             मैं हँसा था               मैं हँसी थी               हम हँसे थे                हम हँसी थी
म.पु.             तू हँसा था               तू हँसी थी               तुम हँसे थे               तुम हँसी थी
अ.पु.            वह हँसा था             वह हँसी थी             वे हँसे थे                  वे हँसी थी
४.अपूर्ण भूत  
उ.पु.             मैं हँस रहा था          मैं हँस रही थी          हम हँस रहे थे           हम हँस रही थी
म.पु.             तू हँस रहा था           तू हँस रही थी           तुम हँस रहे थे           तुम हँस रही थी
अ.पु.            वह हँस रहा था         वह हँस रही थी         वे हँस रहे थे             वे हँस रही थी
५.संदिग्ध भूत
उ.पु.             मैं हँसा होऊँगा         मैं हँसी हूँगी             हम हँसे होगे             हम हँसी होगी
म.पु.             तू हँसा होगा            तू हँसी होगी            तुम हँसे होगे            तुम हँसी होगी
अ.पु.            वह हँसा होगा          वह हँसी होगी          वे हँसे होगे               वे हँसी होगी
६.हेतु-हेतु-मद् भूत
उ.पु.             यदि मैं हँसता           यदि मैं हँसती           यदि हम हँसते          यदि हम हँसती
म.पु.             यदि तू हँसता           यदि तू हँसती           यदि तुम हँसते          यदि तुम हँसती
अ.पु.            यदि वह हँसता         यदि वह हँसती         यदि वे हँसते             यदि वे हँसती
भविष्यत काल
१.सामान्य भविष्यत
उ.पु.                      मैं हँसुगा/हँसूगी                            हम हँसेगे/हँसेगी
म.पु.                      तू हँसेगा/हँसेगी                            तुम हँसोगे/हँसोगी
अ.पु.                      वह हँसेगा/हँसेगी                          वे हँसेगे/हँसेगी
२.संभाव्य भविष्यत
उ.पु.                      (शायद) मैं हँसू                             (शायद) हम हँसे
म.पु.                      (शायद) तू हँसे                             (शायद)तुम हँसो
अ.पु.                      (शायद) वह हँसे                           (शायद) वे हँसे
३.हेतुहेतुमद् भविष्यत
उ.पु.                      (यदि) मैं हँसूगा                            (यदि) हम हँसेगे/हँसेगी
म.पु.                      (यदि) तू हँसेगा/हँसेगी                   (यदि) तुम हँसोगे/हँसोगी
अ.पु.                      (यदि) वह हँसेगा/हँसेगी                 (यदि) वे हँसेगे/हँसेगी
logo
Dictionary Logo

वर्तमान काल, भूतकाल, भविष्यत काल


वर्तमान काल

क्रिया के जिस रुप से चल रहे समय का ज्ञान हो, उसे वर्तमान काल कहते है ।
जैसे – (क) राम पड़ता है ।   (ख) वह लिखता है । 

वर्तमान काल के भेद –

१.सामान्य वर्तमान – क्रिया के जिस रुप से वर्तमान काल की क्रिया का सामान्य रुप में होना पाया जाए, उसे सामान्य वर्तमान काल कहते है ।
जैसे - (क) कमल पड़ता है । (ख) सीता लिखती है । 

२.अपूर्ण वर्तमान - ‘अपूर्ण’ का अर्थ है ‘अधूरा’ क्रिया के जिस रुप से यह पता चले कि क्रिया अभी चालू है, उसे अपुर्ण वर्तमान काल कहते है ।
जैसे – (क) बन्दर नाच रहा है । (ख) धोबी कपड़े धो रहा है । 

३.संदिग्ध वर्तमान – क्रिया के जिस रुप से वर्तमान काल की क्रिया के होने से सन्देह पाया जाए, उसे संदिग्ध वर्तमान काल कहते है ।
जैसे – रमेश आता होगा । (ख) गीता गाती होगी ।  

भूतकाल

भूतकाल का अर्थ है बीता हुआ समय । क्रिया के जिस रुप से बीते समय का ज्ञान हो, उसे भूतकाल कहते है । जैसे - (क) वह गया । (ख)   मैने पत्र लिखा । 

भूतकाल के भेद - 

१.सामान्य भूतकाल - क्रिया के जिस रुप से साधारणत; काम के बीते हुए समय में होना पाया जाए, उसे सामान्य भूतकाल कहा जाता है ।
जैसे -   (क) वह आया           (ख) राम स्कूल गया । 

२.आसन्न भूतकाल - आसन्न का अर्थ है ‘निकट’ । इसमें यह माना जाता है कि काम भूतकाल में आरम्भ होकर अभी- अभी समाप्त हुआ है ।
जैसे – सिपाही ने चोर को पकड़ लिया है । 

३.पूर्ण भूतकाल – क्रिया के जिस रुप से यह पता चले कि कार्य भूतकाल में ही पूरा हो गया था, उसे पूर्ण भूतकाल कहते है ।
जैसे – मैने पत्र लिखा था ।           राधा ने गीत गाया था । 

४.अपूर्ण भूतकाल - क्रिया के जिस रुप से भूतकाल में काम के होने का ज्ञान हो, किन्तु उसकी पूर्णता का पता न चले, वहाँ अपूर्ण भूतकाल होता है ।
जैसे - (क) बच्चे खेल रहे थे ।             (ख) गीता हँस रही थी । 

५.संदिग्ध भूतकाल - संदिग्ध का अर्थ है सन्देह पूर्ण । जब क्रिया के भूतकाल में होने पर सन्देह किया जाए, तब वहाँ संदिग्ध भूतकाल होता है ।
जैसे – (क) सुरेश ने पत्र लिखा होगा ।         (ख) ललिता चली गई होगी ।   

६.हेतुहेतुमद् भूतकाल - ‘हेतु’ कारण को कहते है । जिसमें भूतकाल की क्रिया के होने में कोई शर्त पाई जाए, उसे हेतुहेतुमद् भूतकाल कहते है ।
जैसे – (क) यदि मै आता तो वह चला जाता ।
          (ख) यदि वह मेहनत करता, तो सफल होता ।

भविष्यत काल

जो आने वाले समय में क्रिया के होने का ज्ञान कराए, उसे भविष्यत काल कहते है ।
जैसे - १. वह लिखेगा ।
२.कमला नाचेगी ।

भविष्यत काल के भेद - 

१.सामान्य भविष्यत काल -   भविष्यत काल की क्रिया के जिस रुप से आने वाले समय में क्रिया का सामान्य रुप में होना पाया जाए, उसे सामान्य भविष्यत काल कहते है ।
जैसे – १.राम पत्र लिखेगा ।                     २. सुधा नाचेगी ।

२.सम्भाव्य भविष्यत काल - भविष्यत काल की जिस क्रिया में सम्भावना पाई जाए, उसे सम्भाव्य भविष्यत काल कहते है ।
जैसे – १.शायद आज रात वर्षा हो ।                    २.शायद वे आ जाए ।

३.हेतुहेतुमद् भविष्यत काल –क्रिया के जिस रुप से यह जाना जाए कि भविष्यत काल की क्रिया का होना किसी दूसरी क्रिया के होने पर आधारित है, उसे हेतुहेतुमद् भविष्यत काल कहते है ।
जैसे – १.यदि तुम आओगे, तो मैं चँलूगा ।
२.यदि शत्रु हमला करेगा, तो मुँह की खाएगा ।
logo
Dictionary Logo

वृत्ति और काल


 वृत्ति और काल

वृत्तिः- वृत्ति को ‘क्रियार्थ’ भी कहते है, क्रियार्थ का अर्थ है – क्रिया का अर्थ या प्रयोजन । इसका अर्थ यह है कि ‘क्रिया रुप’ कहने वाले अथवा करने वाले के किस प्रयोजन या वृत्ति की और संकेत करता है ।
क्रियार्थ के प्रकार - हिन्दी में वृत्ति अथवा क्रियार्थ के पांच भेद है – 

१.विध्यर्थ -  जब आप यह कहते है कि आप की बात सुनकर सुनने वाला कुछ क्रिया करे, तब इस क्रियार्थ का प्रयोग होता है  । इसे ‘आज्ञार्थ’ भी कहा जाता है  । 
जैसे - ‘जरा बताइए’ । इसका अर्थ है कि सुनने वाला आपको वह बताए जो आपने पूछा है । 

२.निश्चयार्थक - क्रिया के जिस रुप से कार्य के होने या न होने का अर्थ निश्चित रुप से प्रकट हो, वहाँ ‘निश्चयार्थक’ होता है ।
जैसे – १. मैं लिखता हूँ । २. सहसा बादल बरसने लगे ३. विवेक विद्यालय जाता है ।
विशेष – जहाँ क्रियार्थ के अन्य चार भेद स्पष्ट नही होते, वहाँ निश्चयार्थक प्रकार माना जाता है । 

३.संभावनार्थ - क्रिया के जिस रुप से किसी कार्य के होने की संभावना प्रकट हो, वहाँ ‘संभावनार्थक’ होता है ।
जैसे – १. क्या पता, मेरा मकान तुम्हें पसँद भी आए ।
          २.कदाचित तुम वहाँ नही पहुँच सकोगे । 

४.संकेतार्थ – जिस क्रिया रुप में एक काम का होना दूसरे कार्य पर निर्भर हो, उसे ‘संकेतार्थ’ कहते है 
यहाँ कार्य –कारण एक –दूसरे की ओर संकेत करते है ।
जैसे – वह आता तो उसे भी वरदान मिल जाता । 

५.सन्देहार्थ - क्रिया के जिस रुप से कार्य के होने में संदेह हो ।
जैसे – १.वह मुझे याद करता होगा ।
          २.वह सो रहा होगा ।
          ३.मैं पढ़ा होता, तो अवश्य पास हो गया होता । 

कालः- क्रिया के जिस रुप से उसके होने अथवा करने के समय का बोध हो, उसे काल कहते है  
काल के भेद -   काल के तीन भेद है  
१.वर्तमान काल  
२.भूतकाल
३.भविष्यत
logo
Dictionary Logo